भारत और जापान ने ऐसी चली चाल की घुटनों पे आ गया चीन !

0
3843

naremdra-modi

इसमें कहा गया कि भारत को जापान से परमाणु और सैन्य तकनीक तथा विनिर्माण उद्योग और हाई स्पीड रेलवे की तरह ढांचागत क्षेत्र में निवेश के लिए जापान की जरूरत है। टाइम्‍स ने लिखा कि भारत द्वारा जापान की इच्छाओं के अनुसार अपनी स्थिति बदले जाने की संभावना नहीं है। इसमें कहा गया, ‘भारत ने बहुपक्षीय कूटनीतिक अवधारणा और प्रमुख ताकत का रुख अख्तियार किया है। जापान की योजनाएं मनमुटाव की हैं जो भारत की नीतियों के विपरीत हैं। इसलिए भारत, जापान के साथ अपने सहयोग का मामला दर मामला व्यावहारिक आंकलन करेगा।’ अखबार ने लिखा, ‘भारत, चीन को रोकने के लिए जापान के हाथों का मोहरा नहीं बनेगा क्योंकि वह चीन और जापान के बराबर की ताकत बनना चाहता है और दोनों पक्षों से फायदा लेना चाहता है। भारत, जापान के करीब जाएगा लेकिन भाईचारे के संबंधों में नहीं जाएगा।’

2 of 2

loading...
SHARE